समाचार फ्लैश
बांग्लादेश में बड़े निवेश के पीछे चीन की क्या है नीयत? खिलौनों के बाद अब चीन से आने वाली किस चीज़ पर लगाम लगाएगा भारत पेले ने फैन्स के लिए जारी किया संदेश, कहा- मज़बूत हूं, वर्ल्ड कप देख रहा हूं बेडरूम फोटोज शेयर करने पर तारक मेहता की रीटा रिपोर्टर भड़की एक्ट्रेस बोलीं - मैं कैसी पत्नी, कैसी मां... दिल्ली की मिनी सरकार चुनने के लिए वोटिंग जारी, केजरीवाल ने की ये अपील संधवा द्वारा पंजाब राज्य महिला गतका चैंपियनशिप की शुरुआत फौजा सिंह सरारी द्वारा बाग़बानी विभाग के समूह ब्लॉक अफसरों के संपर्क नंबरों की सूची प्रकाशित करने के निर्देश, जिससे किसान ज़रूरत पडऩे पर ले सकें सलाह पंजाब पुलिस की ए. जी. टी. एफ. द्वारा लारेंस बिशनोयी गैंग का मैंबर ढकोली से गिरफ़्तार; 20 पिस्तौलें, इनोवा कार बरामद विजीलैंस ब्यूरो द्वारा 1,15,000 रुपए की रिश्वत लेने वाले सेवामुक्त एसएमओ के विरुद्ध भ्रष्टाचार का मामला दर्ज उर्फी जावेद ने एक बार फिर शेयर की टॉपलेस वीडियो , यूजर्स जमकर कर रहे हैं कमेंट

हिमाचल से दुखद खबर: आजाद भारत के पहले वोटर का निधन, मगर जाते-जाते भी विधानसभा चुनाव के लिए वोट डाल गए श्याम सरन नेगी

news-details

Independent India First Voter Shyam Saran Negi Died : आजाद भारत के पहले वोटर श्याम सरन नेगी (Shyam Saran Negi Death) का निधन हो गया है| करीब 106 वर्ष की आयु में नेगी की सांसें हमेशा-हमेशा के लिए थम गईं| श्याम सरन नेगी हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के किन्नौर जिले के कल्पा से संबंध रखते थे| नेगी की अंतिम विदाई सम्मानपूर्वक की जाएगी| स्थानीय प्रशासन राजकीय सम्मान के साथ उनके अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहा है| हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने भी श्याम सरन नेगी के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है|
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने दुःख जताते हुए कहा- ''स्वतंत्र भारत के पहले मतदाता श्याम सरन नेगी जी के निधन का दुखद समाचार मिला। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि उनके परिवार को इस दुख को सहन करने की शक्ति दें। मैं अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं| स्वतंत्र भारत के पहले मतदाता एवं किन्नौर से संबंध रखने वाले श्याम सरन नेगी जी को हमेशा याद किया जाएगा| उनकी याद हमेशा भावुक करेगी| जयराम ठाकुर ने कहा कि नेगी जी एक प्रेरणा थे| उन्होंने जिंदगी के आखिरी सफर में भी अपना कर्तव्य निभाया और आखिरी बार 2 नवंबर को विधानसभा चुनाव के लिए अपना पोस्टल वोट डाला| उन्होंने 34वीं बार यह वोटिंग की थी|
दरअसल, वैसे तो हिमाचल प्रदेश में विधानसभा की कुल 68 सीटों के लिए एक ही चरण में 12 नवंबर को वोटिंग होनी है लेकिन इससे पहले 80 साल से ज्यादा उम्र और दिव्यांग वोटर्स की सुविधा के लिए पोस्टल वोट की सुविधा रखी गई है| जहां ऐसे में 106 वर्षीय श्याम सरन नेगी अपना आखिरी वोट 2 नवंबर को डाल गए|

1951 में डाला था पहला वोट, टीचर थे श्याम सरन नेगी

आजाद भारत के पहले वोटर श्याम सरन नेगी की चर्चा कोई कम नहीं थी| उन्हें वोटर लीजेंड भी कहा जाता था| क्योंकि श्याम सरन नेगी की जिंदगी में ऐसा कोई मौका नहीं आया जब वह वोट डालने से चूके हों| कोई भी परिस्थिति रही लेकिन श्याम सरन नेगी ने वोट जरूर डाला है| श्याम सरन नेगी ने 1947 में भारत के आजाद होने के बाद 1951 में पहली बार पहले वोटर के रूप में वोटिंग की थी| बताते हैं कि, श्याम सरन नेगी एक ऐसे व्यक्ति थे जिनमें वोटिंग को लेकर बड़ा उत्साह रहता था| आजाद भारत का पहला वोटर बनने की कहानी भी उनकी उत्सुकता व वोटिंग के प्रति उनकी लगन से ही जुड़ी हुई है| आजाद भारत के पहले वोटर होने के अलावा श्याम सरन नेगी एक टीचर भी थे|