समाचार फ्लैश
बांग्लादेश में बड़े निवेश के पीछे चीन की क्या है नीयत? खिलौनों के बाद अब चीन से आने वाली किस चीज़ पर लगाम लगाएगा भारत पेले ने फैन्स के लिए जारी किया संदेश, कहा- मज़बूत हूं, वर्ल्ड कप देख रहा हूं बेडरूम फोटोज शेयर करने पर तारक मेहता की रीटा रिपोर्टर भड़की एक्ट्रेस बोलीं - मैं कैसी पत्नी, कैसी मां... दिल्ली की मिनी सरकार चुनने के लिए वोटिंग जारी, केजरीवाल ने की ये अपील संधवा द्वारा पंजाब राज्य महिला गतका चैंपियनशिप की शुरुआत फौजा सिंह सरारी द्वारा बाग़बानी विभाग के समूह ब्लॉक अफसरों के संपर्क नंबरों की सूची प्रकाशित करने के निर्देश, जिससे किसान ज़रूरत पडऩे पर ले सकें सलाह पंजाब पुलिस की ए. जी. टी. एफ. द्वारा लारेंस बिशनोयी गैंग का मैंबर ढकोली से गिरफ़्तार; 20 पिस्तौलें, इनोवा कार बरामद विजीलैंस ब्यूरो द्वारा 1,15,000 रुपए की रिश्वत लेने वाले सेवामुक्त एसएमओ के विरुद्ध भ्रष्टाचार का मामला दर्ज उर्फी जावेद ने एक बार फिर शेयर की टॉपलेस वीडियो , यूजर्स जमकर कर रहे हैं कमेंट

विजीलैंस ने ‘गोल्डन प्रोजेक्टस’ फर्म के भगोड़े डायरैक्टर का निकाला सुराग, 20 वर्षों से गिरफ्तारी से बचते आ रहे भगोड़े को किया गिरफ्तार

news-details

 Bolda Punjab
चंडीगढ़, 19 नवंबरः
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने 2002 से भगौड़े चले आ रहे ‘गोल्डन प्रोजैक्ट प्राईवेट लिमटिड’ झरमड़ी, तहसील डेराबस्सी के फर्म के दोषी डायरैक्टरों में से एक विनोद महाजन को गिरफ़्तार कर लिया है।

यह जानकारी देते हुये आज यहाँ राज्य विजीलैंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि उक्त ग़ैर-बैंकिंग वित्तीय संस्था को 1996 में चार डायरैक्टरों द्वारा सरकार के पास एक फर्म के तौर पर रजिस्टर किया गया था, जिसमें पंचकुला से राकेश कांत सिआल, उनकी पत्नी बिमला सिआल, श्रीमती रुमिला सिन्हा निवासी पंचकुला और विनोद महाजन निवासी गाँव आरिफवाला, कपूरथला, जोकि अब पंचकुला में रह रहें, शामिल थे।

इस संबंधी और जानकारी देते हुये प्रवक्ता ने बताया कि उक्त डायरैक्टरों ने उक्त ज़मीन की मालकी देने के लिए निवेशकों को झाँसा देकर ज़िला रूपनगर की तहसील नूरपुर बेदी में 530 एकड़ कृषि योग्य ज़मीन ख़रीदी थी। इसके इलावा उपरोक्त मुलजिमों ने निवेशकों से वसूले गए पैसों के बदले उनको अच्छा पैसा देने का भरोसा भी दिया था।

उन्होंने आगे कहा कि दोषी डायरैक्टरों ने उक्त ज़मीन का ना तो विकास किया और ना ही निवेशकों को मालकी के अधिकार दिए। इसके इलावा, निवेशकों को उनके साथ हुए समझौतों में यकीनी तौर पर पोस्ट डेटिड चैक नहीं दिए गए।

प्रवक्ता ने आगे बताया कि इस सम्बन्ध में उक्त कंपनी के चारों डायरैक्टरों के खि़लाफ़ आई. पी. सी की धारा 406, 420, 467, 468, 471, 120-बी और भ्रष्टाचार रोकथाम एक्ट की धारा 7 (2), 13( 1), 13(2) के अंतर्गत विजीलैंस ब्यूरों के थाना पटियाला में केस दर्ज किया हुआ है।

उन्होंने बताया कि उक्त दोषी विनोद महाजन को माननीय अदालत की तरफ से साल 2002 में भगौड़ा करार दिया गया था और तभी से वह गिरफ़्तारी से बच रहा था। मुलजिम को अदालत में पेश किया जायेगा और इस मामले की आगे जांच जारी है।